10 Lines On Lord Ganesha in Hindi | भगवान गणेश पर 10 लाइनें हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आज हम भगवान श्री गणेश पर 10 पंक्तियाँ हिंदी में ( 10 Lines On Lord Ganesha In Hindi) लिखेंगे दोस्तों  हमारी Website पर आप Long और Short Essay निबंध भी पढ़ सकते है। Bhagwan Ganesha 10 Lines In Hindi, 10 lines on Lord ganesh in Hindi, भगवान गणेश पर 10 लाइनें, गणेश चतुर्थी पर 10 महत्वपूर्ण पंक्ति     

भगवान गणेश इतने प्रसिद्ध क्यों हैं इसके कई कारण हैं। ऐसा माना जाता है कि वह भाग्य और सौभाग्य के स्वामी  है कई लोग नए उद्यम शुरू करने से पहले भगवान गणेश से प्रार्थना करते हैं, और धार्मिक समारोहों के दौरान भी उनका आह्वान किया जाता है। भगवान गणेश से जुड़ी कई कहानियां हैं उन्हें अक्सर एक मानव शरीर और एक हाथी के सिर के साथ चित्रित किया जाता है, और उन्हें आमतौर पर दूध का एक बर्तन या एक किताब पकड़े हुए दिखाया जाता है। भगवान श्री गणेश को विघ्नहर्ता के रूप में भी जाना जाता है,और उनकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। वह वास्तव में एक अद्वितीय भगवान हैं जो पूरे विश्व में हिंदुओं द्वारा पूजनीय हैं। 

10 Lines on Lord Ganesha in Hindi
10 Lines on Lord Ganesha in Hindi

10 Lines On Lord Ganesha In Hindi | भगवान गणेश पर 10 लाइनें SET 1

 1- गणेश भगवान सभी देवों में प्रथम पूज्य शुभकारी और मंगलकारी देवता है।

2- गणेश भगवान के माता का नाम देवी पार्वती और पिता महादेव, भगवान शंकर जी है।

3- गणेश भगवान की अत्यंत प्रिय मिठाई मोदक है।

4- गणेश भगवान के भाई का नाम कार्तिकेय और बहिन का नाम अशोकसुंदरी है।

5- भगवान गणेश अपनी माता पार्वती से अत्यधिक स्नेह करते थे इसलिए भगवान श्री गणेश जी को गौरी पुत्र भी कहा जाता है।

6- भगवान श्री गणेश विघ्नहर्ता के नाम से भी जाने जाते है। क्योकि वह सभी भक्तों के दुख, बाधाओं को हर लेते हैं।

7- हिन्दू धर्म में किसी भी प्रकार के शुभ कार्य जैसे शादी, मकान या नयी वस्तु के लिए सबसे पहले गणेश जी को पूजा जाता है बिना उनकी पूजा किये कोई कार्य फलित नहीं होता है।

8- भगवान श्री गणेश जी को हाथी का सर धारण करने के करण इनको गजानन, बड़ा पेट होने के कारण लंबोदर और भगवान परशुराम जी के फरसे से एक दांत टूटने के कारण,एक दन्त भी कहा जाता है।

9-भगवान श्री गणेश जी को कई नाम से श्रद्धालु पुकारते हैं, जैसे गजानन, गजकर्णक, धूम्रकेतु, गणाध्यक्ष, सुमुख, एकदंत, लंबोदर, विकट, विघ्न-नाश, विनायक,  कपिल, भालचंद्र,

10- भगवान श्री गणेश जी के जन्म दिवस को गणेश चतुर्थी पर्व के रूप में मनाया जाता है। 

भगवान गणेश  भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र हैं, और वे ज्ञान और विद्या के देवता भी हैं। और पूरे विश्व में हिंदुओं द्वारा उनकी पूजा की जाती है।

10 lines on Lord Ganesh in Hindi SET 2

  1. भगवान गणेश हिन्दू धर्म के प्रमुख देवता माने जाते हैं।
  2. वे विघ्नहर्ता के रूप में जाने जाते हैं, जिनका आशीर्वाद शुभ कार्यों में काम आता है।
  3. गणेश के चार भुजाएँ, विशाल शिर और छोटी सी मुखवाक्य से उनकी पहचान होती है।
  4. वे ज्ञान और बुद्धि के प्रतीक भी हैं, जिनकी उपासना से विद्या में वृद्धि होती है।
  5. गणेश चतुर्थी हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जिसे खास धूमधाम से मनाया जाता है।
  6. वाहन के रूप में गजराज को गोदी में बैठे हुए गणेश का दर्शन करना लाभकारी माना जाता है।
  7. विघ्ननाशक और संकटमोचक के रूप में गणेश की पूजा विशेष भक्ति भावना से की जाती है।
  8. गणेश के नामोंं में “वक्रतुण्ड” और “एकदंत” भी प्रसिद्ध हैं, जो उनकी विशेषताओं को दर्शाते हैं।
  9. उनकी कथाएँ पुराणों में विशेष रूप से प्रस्तुत हैं, जिनमें उनके अनूठे लीलाविशेष दर्शाए गए हैं।
  10. गणेश जयंती के दिन लोग उनके चरणों में अपनी श्रद्धा और भक्ति व्यक्त करते हैं और उनकी कृपा का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

You May Also Like✨❤️👇

10 Lines on Independence Day in Hindi

10 Lines On Mahatma Gandhi In Hindi

10 Lines on Save Water in Hindi

10 Lines On Summer Vacation In Hindi for Students

10 Lines on Good Habits in Hindi

10 Lines on Republic Day in Hindi

10 Lines on My Country India in Hindi

FAQ’s: 10 lines on Lord ganesh in Hindi | भगवान गणेश पर 10 लाइनें

भगवान गणेश जी को बुद्धि का देवता क्यों कहा जाता है?

गणेश जी को बुद्धि का देवता कहा जाता है क्योंकि उन्हें हिन्दू धर्म में बुद्धि, ज्ञान, विवेक, बुद्धिमत्ता और समझ की देवता माना जाता है। गणेश जी को श्रीगणेश, विनायक, विघ्नहर्ता आदि नामों से भी जाना जाता हैं। वे हिन्दू पौराणिक कथाओं और तंत्रिक साहित्य में एक महत्वपूर्ण देवता हैं।

गणेश जी को बुद्धि का देवता कहा जाता है क्योंकि उन्हें बुद्धिमानता, ज्ञान, विचारशीलता, निपुणता और बुद्धिमत्ता के प्रतीक के रूप में स्वीकार किया जाता है। उन्हें विद्या, बुद्धि और विज्ञान की प्राप्ति का सिद्धान्त प्रतिष्ठित है। इसके अलावा, गणेश जी को विवेक और समझ के प्रतीक के रूप में भी माना जाता हैं। उनकी कृपा और आशीर्वाद से लोग अपनी बुद्धि का विकास करने में सहायता प्राप्त करते हैं।

गणेश जी को गणपति क्यों कहते हैं?

गणेश जी को ‘गणपति’ कहा जाता है क्योंकि यह एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ होता है ‘गणों का पति’ यानी ‘गणों के नेता’। यहां ‘गण’ शब्द संस्कृत में ‘समूह’ या ‘समुदाय’ को दर्शाता है और ‘पति’ शब्द ‘नेता’ या ‘शासक’ का अर्थ होता है। इस प्रकार, गणेश जी को हिंदू धर्म में देवताओं के प्रमुखों में से एक और विशेष रूप से पूजनीय देवता के रूप में माना जाता है। इसीलिए गणेश जी को ‘गणपति’ कहकर उनकी समस्त शक्तियों, संपूर्णता और विशेषताओं का संकेत दिया जाता है।

गणेश जी का हाथी का चेहरा क्यों है?

गणेश जी को हिन्दू धर्म में सबसे प्रमुख देवता माना जाता है और उन्हें विज्ञान, विद्या, बुद्धि, संयम, शुभ, विध्नहर्ता और सभी शुभकार्यों के प्रमुख देवता के रूप में पूजा जाता है।

गणेश जी का हाथी का चेहरा इसलिए है क्योंकि हाथी हिन्दू संस्कृति में सज्जनता, बुद्धिमता, शक्ति और प्रज्ञा के प्रतीक के रूप में मान्यता प्राप्त करता है। हाथी भी विभिन्न गुणों के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत किया जाता है जैसे कि विवेक, संयम, स्थैर्य और अद्वितीय शक्ति।

इसलिए, गणेश जी के चेहरे में हाथी की आदतें और गुणों का प्रतीक बनाया गया है जो उन्हें बुद्धिमता, संयम और अद्वितीय शक्ति के प्रतीक के रूप में प्रतिष्ठित करता है।

5/5 - (7 votes)

Leave a Comment